मक्खी से कौन सा बीमारी फैलते हैं - DHARMS INFORMATION

Breaking

November 07, 2020

मक्खी से कौन सा बीमारी फैलते हैं

Makkhi

 

सबसे ज्यादा कचरा जगह में रहने वाले हैं यह मक्खी हर जगह में बैठते हैं । आपके किचन रूम में भी यह मक्खी भन भना के बैठते हैं जहां भी इसको मौका मिलते हैं वहीं पर बैठ जाते हैं पर कुछ लोगों को पता नहीं है कि इस मक्खी से होने वाली बीमारी ।

सबसे खतरनाक है यह मक्खी कई प्रकार के बीमारी फैलाते हैं यह यदि कोई व्यक्ति इस से सावधान नहीं रहे तो उसके लिए लिए बहुत ही मुश्किल हो जाते हैं अपने स्वास्थ्य के लिए ।

यह मक्खी सीधे कचरा पर बैठकर फिर आपके खाने की भोजन पर भी बैठ जाते हैं और वही भजन अक्सर कुछ लोग अनदेखा करके खा जाते हैं पर उसे बाद में ऐसे बीमारी आ जाते हैं कि ठीक होना बहुत मुश्किल हो जाती हैं कैसे-कैसे बीमारी फैलते हैं आइए जानते ।


भारत में कालाजार फैलाने वाली एक मात्र रोगवाहक   👉मक्खी है 

यह मक्खी छोटे कीड़े होते हैं जिसका आकार मच्छर का एक चौथाई होता है। इस मक्खी के शरीर की लंबाई 1.5 से 3.5 मिमी होती है।

वयस्क मक्खी रोएंदार होती हैं जिसके सीधे पंख आयु के अनुपात में छोटे- बड़े होते हैं।

इसका जीवन अंडे से शुरू होता है तथा लार्वा, प्यूपा के स्तर से होते हुए व्यस्क के रूप में पनपते है। इस पूरे चक्र में लगभग एक महीना लग जाता है। तथापि तापमान तथा अन्य भौगोलिक परिस्थितियों पर इसका विकास निर्भर करता है।

इन मक्खियों के लिए आपेक्षिक उमस, गरम तापमान, उच्च अवमृदा पानी, घने पेड़ पौधे ज्यादा देखा जाता है ।

लार्वा के भोजन के लिए उपयुक्त उच्च जैव पदार्थ वाले स्थानों की सूक्ष्म जलवायु वाली स्थानों पर ज्यादा रहती है ।


मक्खियों से होने वाली संक्रमण कैसे होती हैं ?


बुखार अक्सर रुक-रुक कर या तेजी से तथा दोहरी गति से आता है।

भूख न लगना, पीलापन और वजन में कमी जिससे शरीर में दुर्बलता

कमजोरी

प्लीहा का अधिक बढ़ना- प्लीहा तेजी से अधिक बढ़ता है और सामान्यतः यह नरम और कड़ा होता है।

जिगर का बढ़ना लेकिन प्लीहा के जितना नहीं, यह नरम होता है और इसकी सतह चिकनी होती है तथा इसके किनारे तेज होते हैं।

लिम्फौडनोपैथी- भारत में सामान्यतः नहीं होता है।

त्वचा-सूखी, पतली और शल्की होती है तथा बाल झड़ सकते हैं। गोरे व्यक्तियों के हाथ, पैर, पेट और चेहरे का रंग भूरा हो जाता है। इसी से इसका नाम कालाजार पड़ा अर्थात काला बुखार।

ऐसे मक्खियों से सावधान रहिए और अपने शरीर को स्वस्थ रखें ।