दूसरे की जीवन बचाने के लिए प्रार्थना कैसे करें - DHARMS INFORMATION

Breaking

October 30, 2020

दूसरे की जीवन बचाने के लिए प्रार्थना कैसे करें

Pray


 मित्रों क्या आप दूसरे की जीवन बचाने की कोशिश कर रहे? क्या आप दूसरे की संकट दूर करना चाहते हैं ? यह बात हमेशा ध्यान में रखना हैं जो दूसरे के लिए सोचते हैं, दूसरे की संकट दूर करना चाहते हैं ईश्वर उनकी सदैव रक्षा करते हैं बहुत सहायता भी करते हैं । शायद इस बात को उसी को पता है जो दूसरे की मदद करते हैं । यदि आप अपने ही किसी को मदद करना चाहते हैं अपने प्रार्थना के जरिए तो बहुत ही अच्छी बात है ।


उससे पहले वह पार्थना कैसे करें आपके पार्थना से उनकी संकट ,उनकी जीवन रक्षा कैसे होगी यह सब जाने के लिए पूरी पोस्ट को पढ़ें ।

प्रार्थना एक आह्वान या कार्य है जो जानबूझकर संचार के माध्यम से पूजा की वस्तु के साथ तालमेल को सक्रिय करने का प्रयास करता है।  संकीर्ण अर्थ में, यह शब्द एक देवता (एक देवता), या एक पूर्वज के प्रति निर्देशित दलील या अंतःकरण के एक अधिनियम को संदर्भित करता है।  आम तौर पर, प्रार्थना में धन्यवाद या प्रशंसा का उद्देश्य भी हो सकता है, और तुलनात्मक धर्म में ध्यान के अधिक सार रूपों और आकर्षण या मंत्र के साथ निकटता से जुड़ा हुआ है। प्रार्थना कई प्रकार के रूप ले सकती है: यह एक सेट लिटर्जी या अनुष्ठान का हिस्सा हो सकता है, और यह अकेले या समूहों में किया जा सकता है।  प्रार्थना एक भजन, भस्म, औपचारिक पंथ कथन, या प्रार्थना व्यक्ति में एक सहज उच्चारण का रूप ले सकती है।


 प्रार्थना का अधिनियम लिखित स्रोतों में 5000 साल पहले के रूप में सत्यापित है।  आज, अधिकांश प्रमुख धर्मों में प्रार्थना एक या दूसरे तरीके से होती है;  कुछ लोग इस कृत्य का अनुष्ठान करते हैं, जिसमें कड़े अनुक्रम की आवश्यकता होती है या प्रार्थना करने की अनुमति देने पर प्रतिबंध लगाते हैं, जबकि अन्य सिखाते हैं कि किसी भी समय किसी के द्वारा भी अनायास प्रार्थना की जा सकती है।


 प्रार्थना के उपयोग के बारे में वैज्ञानिक अध्ययन ने ज्यादातर बीमार या घायल लोगों के उपचार पर इसके प्रभाव पर ध्यान केंद्रित किया है।  विश्वास चिकित्सा में प्रार्थना की प्रभावकारिता का विरोधाभासी परिणामों के साथ, कई अध्ययनों में मूल्यांकन किया गया है।

प्रार्थना में कितना शक्ति है कि किसकी जीवन आप बचा सकते हैं ।


प्रार्थना कैसे करें


अपने ईश्वर के सामने बैठ जाइए दोनों हाथ एक साथ करके

अपने मन को स्थिर करें और फिर जिसके लिए आप मंगल करना चाहते हैं उसकी याद करके ईश्वर की स्मरण करें ।


यदि आपके कोई व्यक्ति मौत से लड़ रहे हैं किसी हॉस्पिटल में तो एक कैंडल जलाई और उनकी चेहरा को याद करके ईश्वर को स्मरण करें ।


ऐसे प्रार्थना से दूसरे की संकट दूर करते हैं , जीवन रक्षा करते हैं ,कोई भी बाधा उत्पन्न हो तो उसे दूर करने में सक्षम होती हैं ।