जानिए विघ्न दूर करने के सरल उपाय - DHARMS INFORMATION

Breaking

Mach ads

जानिए विघ्न दूर करने के सरल उपाय

 

Bighna

अपने विघ्न दूर करने के लिए जानिए हमारे साथ ।

मित्रों हर किसी के जीवन में विघ्न आते रहते हैं परंतु उससे छुटकारा पाने के लिए हमारे पास उस समय कोई भी बुद्धि काम नहीं करता है । तब इंसान बहुत अपने आप को कमजोर महसूस करते हैं बहुत ही निराश अपनी जिंदगी से। तो चलिए हम लोग अपने संकट दूर करने का एक सरल उपाय अपनाएंगे जहां हम सभी खुशहाल जिंदगी जी सकें ।


जो व्यक्ति ईश्वर को मानते हैं उनका भी किसी न किसी प्रकार से विघ्न आते हैं । उसे परीक्षा लेते हैं ईश्वर ही ऐसे छल करते हैं भक्तों के साथ पर भक्त उसे समझ नहीं पाते हैं ।

जो व्यक्ति ईश्वर को मानते नहीं उनका भी संकट आते हैं उस वक्त उसे कुछ भी समझ में नहीं आते क्या करें जब घोर संकट आते हैं तब उनके लिए एक ही विकल्प रह जाते हैं कि वह ईश्वर की शरण में आ जाए आखिर ऐसे व्यक्ति ईश्वर के स्मरण ले ही लेते हैं । उसके बाद उनके विघ्न जीवन में आना बंद हो जाते हैं अपने जीवन हमेशा खुशहाल जिंदगी जीते हैं । 

हर किसी के जीवन में विघ्न आने का कुछ ना कुछ कारण अवश्य होता है जो कारण हमें समझ नहीं आती और जिसके कारण हमें ईश्वर की स्मरण करना बहुत जरूरी है । तभी आप बुरे संकट से छुटकारा पा सकते हैं । 


तो आइए जानते हैं विघ्नों को दूर करने के सरल उपाय


भगवान महादेव के पुत्र गणेश भगवान के कुछ मंत्र पाठ करना है जिसके जरिए आप अपने विघ्नों को दूर कर सकते हैं बड़ी सरल तरीका से ।


भगवान गणेश जी के विघ्नहर्ता मंत्र ।

👇

ॐ एकदन्ताय विद्महे वक्रतुंडाय धीमहि तन्नो बुदि्ध प्रचोदयात ।

👇

यह मंत्र हर रोज 108 बार जप करने से किसी भी प्रकार के विघ्नों को दूर करता है ।


भगवान गणेश जी का और एक नाम है विघ्नहर्ता किसी भी भक्तों के जीवन में बड़े से बड़े संकट को दूर करते हैं ।भगवान गणेश जी के इसलिए उनका नाम भी पड़ा विघ्नहर्ता । भगवान गणेश जी के भक्तों के जीवन में कोई भी संकट आने पर उसे दूर कर देते हैं । बस भक्ति और श्रद्धा के साथ इस मंत्र का 108 बार हर रोज जप करें और अपना जीवन में विघ्नों को दूर करें ।


मित्रों याद रखें कि आप के भक्ति और श्रद्धा हमेशा बनाए रखें और भगवान गणेश जी के सम्मुख होकर मंत्रों का सही उच्चारण करके जप करें नहीं तो आपके संकट और भी ज्यादा हो सकता है । इसलिए कृपया करके अपने शरीर को शुद्ध बनाकर इसे भक्ति के साथ सही उच्चारण करके ही जप करें। धन्यवाद🙏