भगवान राम की लंबाई कितनी थी जानिए

 

Bhawan ram


भगवान राम की लंबाई कितनी थी ? यह जाने के लिए हमारे साथ बने रहिए सबसे पहले हमारे वेबसाइट में आपका स्वागत है । 🙏  राम नाम सुनते ही हमारे मन में आनंद एवं सुख में भर जाते हैं । नाम ही ऐसे हैं कि सारे संसार में सुख देने के लिए ही इस नाम का उत्पन्न हुई है ।  हमारे मन में जो सवाल है राम की लंबाई कितनी थी यह जानना सबके लिए स्वभाविक है । क्योंकि जिसे हम लोग भगवान मानते हैं उनके चेहरे कैसे थे यह सभी को जाना चाहिए . जिनके कारण हमारे संसार में सुख आती है भला क्यों ना जानने की प्रयास करेंगे कैसे दिखते थे करके ।

भगवान पुरुषोत्तम श्री राम की आंखें एवं चेहरे और कैसी थी उनकी आवाज। इन सब कि हम सब मात्र कल्पना ही कर सकते हैं परंतु रामायण में वाल्मीकि ने भगवान राम के मानव शरीर को जिस प्रकार वर्णन किया है, उसको पढ़कर आपने मन में बनी भगवान राम की धुंधली छवि बिल्कुल स्पष्ट हो जाएगी। 


 मित्रों आइए जानते हैं भगवान राम की लंबाई कितनी थी ?



सिर और केश कैसे दिखते थे ?


भगवान राम को त्रिशीर्षवान के नाम से भी जाना जाता है। रामायण के अनुसार इसका मतलब सिर में तीन आवृत होता है। तीन लक्षणों से युक्त होना भी इसका अर्थ होता है। वाल्मीकि रामायण में उल्लेख के अनुसार राम के सिर के बाल लंबे थे।


मुख के चेहरे कैसे दिखते थे ?


भगवान राम की सुंदरता को वाल्मीकि ने शुभानन के रुप मे साझा किया। राम के मुख की कोमलता और सुंदरता को व्यक्त करने के लिए चेहरे की उपमा चंद्रज्योत्सना और बालचंद्र से तुलना की गई हैं ।


आंखें कैसे दिखते थे


कमल की तरह विशाल आंखें थी भगवान श्री राम के आंखों में नजर मिलाने से हर कोई मोहित हो जाते थे । आंखों के कोणों के ताम्र रंग को ताम्राक्ष और लोहिताश के रूप में बाल्मीकि ने प्रकाश किया गया है।


नाक कैसे देखते थे ?


भगवान राम चंद्र को महानासिका वाला भी कहा गया है। नासिका की महत्ता से अभिप्राय उन्नत और दीर्घ नासिका चेहरे पर चमक दिखाता है ।


कान कैसे दिखते थे ?


👉राम के कानों के लिए टीकारों ने चतुर्दशसमद्वन्द और दशवृहत् का प्रयोग किया है। जिसका अर्थ होता है कानों का सम और बड़ा होना। वहीं वाल्मीकि ने उनके कानों के लिए शुभ कुंडलों का प्रयोग किया था।


हाथ कैसे देखते थे ?


भगवान राम के हाथ के अंगूठे में चारों वेदों की प्राप्तिसूचक रेखा थी, जिससे उन्हें चतुष्फल कहा जाता है और उनके हाथ जिसके सिर पर होते थे उनका जीवन सुखमय होता था। 


 उदर व नाभि कैसे दिखते थे ?


रामायण ग्रंथ के अनुसार 

तीन रेखाओं से युक्त था।


चरण कैसे दिखते थे ?


👉राम के सम और कमल के समान चरणों के लिए टीकाकरों ने चतुर्दशसमद्वन्द्व और दशपदम विश्लेषण का प्रयोग किया था।


शरीर के रंग क्या था ?


रामायण के अनुसार वाल्मीकि ने उल्लेख किया कि जो रंग इस जगत में ना के बराबर वही रंग के प्रभु श्री राम थे ।उनके शरीर नीला और काला के थे । जहां किसी आम इंसान के ऐसे रंग दिखाई नहीं देंगे फोटो में जिस प्रकार आपको दिखाई देते हैं ठीक उसी तरह ही भगवान श्री राम के रंग था । 


भगवान राम की कितनी लंबाई थी ?


रामायण के अनुसार भगवान राम की लंबाई लगभग 6 से 7 फिट के भीतर थे । 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ