kartik bhagwan || के मंत्र जप कैसे करें

 

Kartik bhagwan


प्रमुख देवता के पुत्रों और वह है महादेव के बड़े संतान कार्तिकेय । मित्रों नमस्कार हमारे वेबसाइट  में आपको स्वागतम । 
भगवान कार्तिकेय पूजा करने से मनुष्य के अंदर एक ऐसा ऊर्जा पैदा होती है जो खोया हुआ चीज वापस होती है शायद आपको यकीन नहीं होगा लेकिन यही हकीकत । अगर आप के धन संपत्ति खोए हुए  या छीना गया तो भगवान कार्तिकेय पूजा अवश्य करें । भगवान कार्तिकेय पूजा करने से खोए हुए संपत्ति को वापस लौट आती है । इसलिए देश के नेता, मंत्री, बड़े-बड़े वकील यह सभी भगवान कार्तिकेय पूजा करते हैं । ताकि उनके जो कुछ भी है वह खोना नहीं चाहते हैं ।

इस दिन करें विशेष उपासना
शास्त्रों के अनुसार स्कंद षष्ठी का दिन विशेष महत्व है। इस दिन भगवान कार्तिकेय  पूजा करने से जल्द ही प्रसन्न हो जाते हैं। इस दिन पूजन से भक्तों के रोग, दुख और दरिद्रता का नाश होता है।  बताया जा रहा है कि इसी दिन कार्तिकेय ने तारकासुर नामक राक्षस का वध किया था। इनके पूजन से जीवन में उच्च योगों की प्राप्ति होगी । स्कंद षष्ठी को व्रत करने से काम, क्रोध, लोभ, मद, मोह, ईष्र्या, अहंकार से छुटकारा मिलती है ।

आइए जानते हैं भगवान कार्तिक को प्रसन्न करने के लिए क्या-क्या करना पड़ता है ।

भगवान कार्तिक के सम्मुख होकर इस मंत्र का जप अवश्य करें ।

कार्तिकेय को प्रसन्न करने के लिए
हरे मुरूगा हरे मुरूगा शिवा कुमारा हरो हरा
हरे कंधा हारे कंधा हारे कंधा हरो हरा
हरे षण्मुखा हारे षण्मुखा हारे षणमुखा हरो हरा
हरे वेला हरे वेला हारे वेला हरो हरा
हरे मुरूगा हरे मुरूगा ऊं मुरूगा हरो हरा ।

प्रमुख मंत्र

1. ॐ श्री स्कन्दाय नमः
2. ॐ शरवण भवाय नमः
3. ॐ श्री सुब्रमण्यम स्वामीने नमः
4. ॐ श्री स्कन्दाय नमः
5.  ॐ श्री षष्ठी वल्ली युक्त कार्तिकेय स्वामीने नमः 🙏

भगवान कार्तिकेय के मंत्र
शत्रुओं के नाश के लिए
ऊं शारवाना-भावाया नमः
ज्ञानशक्तिधरा स्कंदा वल्लीईकल्याणा सुंदरा
देवसेना मनः काँता कार्तिकेया नामोस्तुते
ऊं सुब्रहमणयाया नमः

अपने सफलता प्राप्ति के लिए जाप अवश्य करें ।
आरमुखा ओम मुरूगा
वेल वेल मुरूगा मुरूगा
वा वा मुरूगा मुरूगा
वादी वेल अज़्गा मुरूगा
अदियार एलाया मुरूगा
अज़्गा मुरूगा वरूवाई
वादी वेलुधने वरूवाई

कष्टों का नाश करने के लिए इस मंत्र का जाप अवश्य करें ।
ओम तत्पुरुषाय विधमहे: 
महा सैन्या धीमहि 
तन्नो स्कन्दा प्रचोद्यात

भगवान कार्तिकेय पूजा करने से मां पार्वती एवं देवों के देव महादेव बहुत प्रसन्न होते हैं । क्योंकि उनके बड़ा संतान भी है इसलिए आप जैसे गणेश को पूजा करते हैं ठीक उसी प्रकार भगवान कार्तिक को भी पूजा कर सकते हैं . भगवान कार्तिक को पूजा करने से किसी भी प्रकार के संकट एवं अपने लोगों से कभी शत्रुता नहीं होगी ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ