दुश्मन का नाश करने के उपाय जानें


Mantra totke


 मित्र नमस्कार हमारे वेबसाइट में आपका फिर से स्वागत है । जो मित्रों लंबे दिनों से किसी दूसरे के लिए परेशान है आज मैं उन्हीं मित्रों के लिए एक ऐसा बंगाल के जादू भरे टोटके लेकर आया हूं जहां आप अपने शत्रुओं से बड़ी आसानी के साथ छुटकारा पा सकते हैं । मित्रों जीवन में जीना है तो प्रेम से जीना है । अगर किसी के साथ शत्रु हो जाए तो जिंदगी जीना बहुत बेकार लगता है । इसलिए हमेशा ऐसे व्यक्ति से दूर रहना ही हमारे लिए सबसे बेहतर होगी ।  लेकिन कुछ व्यक्ति ऐसे होते हैं कि उनसे दूर रहने के बावजूद पीछे नहीं छोड़ते हैं तो ऐसे आदमी से पीछे छुड़ाने के लिए बस हम जो उपाय बताने जा रहे हैं इससे करके देखिए । मैं उम्मीद करता हूं कि अगर आप हमारे दिया गया इस नियम का पालन करेंगे तो कुछ ही दिन के अंदर शत्रु का विनाश हो जाएगा । 


तो कैसे करेंगे विनाश अपने शत्रुओं का जानिए विस्तार से ।


 अमावस्या के रात में 12:00 से 3:00 बजे के अंदर यह उपाय आपको करनी चाहिए । 

सबसे पहले एक सफेद कपड़ा आधा मीटर से लेकर 1 मीटर तक ले लेनी चाहिए . उसके बाद उड़द के दाल 1 किलो 250 ग्राम ले लेना चाहिए उस सफेद कपड़े के ऊपर उड़द के दाल बिछा लेना चाहिए । उसके बाद काला रंग के कपड़े का एक पोटली बनाइए । उस काले रंग का कपड़े का पुटली एक इंसान की तरह लगने चाहिए । उसके बाद पुतली को उस उड़द दाल के ऊपर सुला दीजिए । उस पुटली का दो हाथ एक सिर एवं दो पेड़ होनी चाहिए यानी बिल्कुल इंसान की तरह । उसके बाद पांच नींबू ले लीजिए दो नींबू पैर की तरफ रखें , और दो नींबू दोनों हाथ के पास रखे और एक नींबू पोटली का पेट के ऊपर रखें नींबू ऐसे रखें ताकि इधर-उधर फिसल ना जाए उसे जरूरत हो तो बांध कर रखिए । उसके बाद 108 छोटे किला ले लीजिए  

अब नीचे दिया गया मंत्रों को पढ़ना शुरू कर दीजिए । 

मंत्र

 ओम ह्रिम क्लिम अमुक के नाम दुसटाए मुखाए संभाए संभाए  जीवहाए जीवहाए अकाल मृत्यु ओम फट स्वाहा ।


अमुक के  नाम उसी का नाम दें जिस व्यक्ति से आप बहुत परेशान है । 

इस मंत्र का 108 बार जाप के साथ-साथ छोटे किले उस पुतली का पेट के अंदर गाड़ देना है एक बार मंत्र जप करें और फिर इस तरह 108 कांटे को एक-एक करके पेट में भोकना  शुरू करें । ध्यान रखें मंत्र जाप के साथ-साथ  कांटे को गरना है 108 बार । उसके बाद मिट्टी का बर्तन लेकर सारे सामग्री को उस मिट्टी के बर्तन के अंदर जला देना चाहिए । उसके बाद घर से दूर किसी अच्छा जगह पर मिट्टी का नीचे गार दीजिए । मिट्टी के नीचे दबाने के समय आपको किसी की नजर नहीं पढ़ना चाहिए और न ही आप किसी के साथ बात करेंगे सीधे घर में आकर नहा धोकर अपने काम पर लगे रहिए । 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ