विश्व के सबसे बड़ा विष्णु मंदिर कहां स्थित हैं जानिए

 मित्र नमस्कार दुनिया के सबसे बड़ा विष्णु मंदिर जाने के लिए हमारे साथ बने रहिए सबसे पहले आपको हमारे वेबसाइट में स्वागत है 🌷🙏


Vishnu mandir

हिंदू धर्म में प्रमुख देवताओं में से भगवान विष्णु है जहां भक्त अपने मनोकामना पूर्ण करने के लिए भगवान विष्णु के मंदिर जाते हैं ।

लेकिन कुछ ऐसा मंदिर है जहां अधिकांश लोगों को जानकारी नहीं है मैं आज आपको वह जानकारी देंगे जहां खुद को आनंदित महसूस करेंगे तो दोस्तों यदि आप भगवान विष्णु के भक्त हैं तो आपके लिए यह पोस्ट बहुत ही महत्वपूर्ण है ।

वैसे तो भगवान विष्णु के अनगिनत मंदिर थे पूरे दुनिया में लेकिन वर्तमान धीरे धीरे कुछ चमत्कारी मंदिर ध्वस्त हो चुका है जहां आज बहुत कम देखने को मिलती है ।

तो दोस्तों मैं आपको एक बात कहना चाहता हूं क्या आप मेरे साइट पर नए हैं तो अच्छी बात है । अगर आप हमारे साथ जुड़ना चाहते हैं तो अपने ईमेल आईडी देकर नीचे सब्सक्राइब बटन से अपने ईमेल आईडी डाल कर जोड़ सकते हैं । इसी तरह जानकारी आपके पास पहले पहुंचेंगे चलिए ज्यादा देर ना करके आपको बताते हैं कि विश्व के सबसे बड़े विष्णु मंदिर कहां पर स्थापित है ।


विश्व में बहुत मंदिर है हिंदू धर्म के लेकिन ऐसे भय्वो और बड़े मंदिर एक मात्र अंकोरवाट  कंबोडिया मे ही स्थापित है और दुनिया का सबसे बड़ा धार्मिक स्मारक है । इसके 162.6 हेक्टेयर (1,626,000 वर्ग मीटर; 402 एकड़) जमीन पर यह मंदिर स्थापित है । यह जगह कंबोडिया के अंकोर में है जिसका पुराना नाम 'यशोधरपुर' था। इस मंदिर का निर्माण राजा सूर्यवर्मन द्वितीय (१११२-५३ई.) के शासनकाल में हुआ था। यह मंदिर मीकांग नदी के किनारे सिमरिप शहर में बनाया है जो आज भी संसार का सबसे बड़ा मंदिर है जो सैकड़ों वर्ग मील में फैला हुआ है। जहां भी समय ऐसे और दूसरा कहीं नहीं है । राष्ट्र के लिए सम्मान के प्रतीक हैं इस मंदिर कंबोडिया के राष्ट्रध्वज में भी स्थान दिया गया है। यह मन्दिर मेरु पर्वत का भी प्रतीक है। इसकी दीवारों पर भारतीय हिंदू धर्म ग्रंथों के अनुसार चित्र अंकन किया गया है   अप्सराएं, असुरों और देवताओं के बीच समुद्र मन्थन कैसे किया गया था यह भी दृश्य दिखाया गया है। 


विश्व के सबसे लोकप्रिय पर्यटन स्थानों में से एक होने के साथ ही यह मंदिर यूनेस्को के भी विश्व धरोहर स्थलों में से एक मानते हैं। पर्यटक यहाँ केवल वास्तुशास्त्र का अनुपम सौंदर्य देखने ही नहीं आते बल्कि यहाँ का भगवान सूर्योदय और सूर्यास्त देखने भी आते हैं उन्हें पूजा भी किया करते हैं । सनातनी लोग इसे पवित्र तीर्थस्थान मानते हैं जहां हर समय भक्तों की भीड़ लगे रहते हैं ।

माना जाता है कि यहां जो भी भक्त अपने मनोकामना लेकर आते हैं भगवान विष्णु पूरे कर देते हैं यहां चमत्कार से कम नहीं । 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ