700 साल पुराने देवी दुर्गा मंदिर के चमत्कार जाने

 

Dewri mandir


700 साल पुराने देवी दुर्गा मंदिर के विषय में जानकारी प्राप्त कीजिए । मित्रों हमारे वेबसाइट में आपको स्वागतम ।🙏

रिसर्च करने पर ऐसे देवी देवताओं के मंदिर हजारों सामने आ ही जाते हैं । लेकिन जो हिंदू संस्कृति हमारे पूर्वजों ने अभी तक जिंदा रखा है उन पर सभी को गर्व होना चाहिए।


भारत में ऐसे हजारों साल पुराने हिंदू देवी देवताओं के न जाने कितने मंदिर इस्लामिक द्वारा ध्वस्त कर दिए गए।  लेकिन रिसर्च करने पर एक-एक करके उसकी अस्तित्व निकाल  ही जाता है  । मित्रो बता दूं 700 साल पुराने देवी दुर्गा माता की इस मंदिर को किसी ने ध्वस्त कर नहीं पाए जिसके कारण आज तक वैसे ही खड़े हैं । इस मंदिर में सभी भक्तों अपना मनोकामना पूर्ण करने के लिए पूजा देने आते हैं ।


चलिए जानते हैं दुर्गा माता मंदिर कहां पर स्थित है ?


समुंदर का नाम देवरी मंदिर भारतीय राज्यों झारखंड की राजधानी यानि रांची से दक्षिण की ओर 60 किलोमीटर दूर तामार में स्थित है।  यह टाटा-रांची हाईवे (NH33) पर है।  यह देवी दुर्गा का बहुत पुराना मंदिर है।  मुख्य आकर्षण यह है कि देवी दुर्गा की 700 वर्ष पुरानी मूर्ति में 16 हाथ हैं (सामान्य रूप से देवी दुर्गा की 8 वर्ष की आयु है)।  मंदिर बहुत पुराना है और वर्तमान में नवीनीकरण के अधीन है।  मंदिर का निर्माण बिना किसी सीमेंट सामग्री के बड़े पत्थरों को एक दूसरे के ऊपर रखकर किया गया है।


मंदिर में भक्त अपनी इच्छाओं की पूर्ति के लिए बांस पर पीले और लाल पवित्र धागे बाँधते हैं।  अपनी इच्छाओं की पूर्ति होने पर, वे फिर से मंदिर में आते हैं और धागे को खोल देते हैं।  सोलह भुजी देवी को समर्पित, देवी दुर्गा का एक अवतार, देवरी मंदिर मंदिर रांची के मुख्य शहर से थोड़ा बाहर स्थित है।  लगभग दो एकड़ में फैला रांची का यह पुराना मंदिर यहां भगवान शिव की एक मूर्ति भी है।  किंवदंती है कि जिसने भी मंदिर की संरचना को बदलने की कोशिश की है, उसे देवताओं के क्रोध का सामना करना पड़ा और परिणाम भुगतना पड़ा।  माना जाता है कि देवरी मंदिर एकमात्र ऐसा मंदिर है जहाँ छह आदिवासी पुजारी, जिन्हें पाहन के नाम से जाना जाता है, अनुष्ठान करते हैं और ब्राह्मण पुजारियों के साथ प्रार्थना करते हैं।  जिन्हें मुख्य रूप से पांडा के नाम से जाना जाता है।  रांची से लगभग 60 किमी दूरी है टाटा के रास्ते जाने वाले यह मंदिर स्थित है। 


मित्रों यदि आपके पास समय है तो इस मंदिर में जाकर देवरी मां के दर्शन करके जरूर आइए . मैं आशा करता हूं कि आपके मनाकामना देवी दुर्गा माता ने जरूर पूरी करेंगे ।


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ