मनोकामना पूरी होने के संकेत इस प्रकार से मिलती हैं

 

Knowledge

मनोकामना पूरी होने के संकेत इस तरह से हमें मिलती है । मित्रों नमस्कार हमारे वेबसाइट में आपका स्वागत है । कई लोगों के मन में अपने अपने मनपसंद की इच्छा रहती हैं अब वह पूरा कब होंगेे, उसका कैसे संकेत मिलेगी यह सब हम आपको विस्तार से बताएंगे ।  मित्रों यदि आप हमारे वेबसाइट में नए मित्रों हैं तो हमारे साथ जुड़ने के लिए सब्सक्राइब अवश्य करें  हम आपको इस तरह जानकारी देने के लिए दिन रात मेहनत करते हैं । 


हम सभी मनुष्य की मन के अंदर कुछ ना कुछ तमन्ना होते हैं लेकिन हम यह नहीं जान पाते हैं कि उसे पूर्ण करने से पहले आभास कैसे मिलेगा । दुनिया में हर तरह की लोगों के वास है कोई गलत कर्म करके अपनी जिंदगी गुजार रहे हैं तो कोई सही कर्म करके जीवन बिता रहे हैं । बस फर्क इतना है कि कोई गलत रास्ता चुन लिया है और कोई सही रास्ता । लेकिन सभी मनुष्य के अंदर मनोकामना छुपे हुए होते उसे प्राप्त करने के लिए हम बेचैन रहते हैं । 

बहुत ऐसे मित्रों है जो अपने मनोकामना पूर्ण हेतु तपस्या करते हैं और फिर कोई तरह के कष्ट भी उठाते हैं । ऐसे में बहुत लोगों के साथ सपने में भी आभास करवाते हैं पर उन्हें समझने में असमर्थ होते हैं । शास्त्र कथा के अनुसार जो लोग पुण्य आत्मा होते हैं अपने मनोकामना इच्छा जो भी रखते हैं उन्हें तो कई प्रकार के आभास करवाते हैं आप उसे समझ लेते हैं बड़ी आसानी से। और जो लोग संसारीक जीवन में उलझ में रह गया है उन्हें भी संकेत देते हैं पर समझ नहीं पाते हैं । 


तो चलिए अपना मनोकामना पूरी होने के संकेत कैसे प्राप्त कर सकते हैं मैं आपको अभी विस्तार से बताएंगे । 

👇

आज जो भी हम आपको बताने जा रहे हैं यह त्रेता युग से लोग आजमाते आ रहे हैं । सर्वप्रथम सुबह उठकर किसी के मुंह नहीं देखना चाहिए अगर आपके घर में छोटे बच्चे हैं 6 साल या 7 साल के तो बहुत ही अच्छी बात है । छोटे बच्चे के पास आप खुद जाइए उसके बाद आपके एक हाथ की २ उंगलियां उस बच्चे की सामने रखें । उसके बाद अपने मन में जो भी इच्छा रखें हैं एक उंगलियां पर समर्पित करें अब उन छोटे बच्चे को दोनों उंगलियां में से 1 उंगलियां पकड़ने के लिए बोलिए । इस प्रकार 3 बर प्रयास करनी है और तीन बार में से अगर आपके समर्पित वाले उंगलियां को २ बार पकड़ लिया तो समझे कि आने वाले कुछ ही दिनों में आपका मनोकामना पूर्ण होने वाले हैं । 

और यह काम आप छोटे बच्चे से ही कराना क्योंकि छोटे बच्चे भगवान विष्णु के रूप होता है जो भी कहता है सच कहते हैं । छोटे बच्चे के मन में ना तो कोई छल कपट होता है और ना मन में पाप रहते हैं हिंदू शास्त्र के अनुसार भगवान विष्णु के रूप में माना जाता है । इस क्रिया समाप्त के बाद उस बच्चे को अपने मनपसंद कुछ खिलाइए जरूर क्योंकि बच्चे को अगर आप खिलाएंगे तो उनके आशीर्वाद एवं दुआ प्राप्त होंगे । 


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ