एकादशी व्रत किसको करना चाहिए और व्रत रखने से क्या फल मिलता हैं जाने

 

धर्म ज्ञान

एकादशी व्रत घर के किस सदस्यों को करना चाहिए जानिए हमारे साथ मित्र नमस्कार हमारी वेबसाइट में आपका स्वागत है । हिंदू धर्म एकादशी का पालन आज से नहीं मित्रों प्राचीन काल से चले आ रहे हैं । व्रत रखने से भगवान विष्णु एवं माता लक्ष्मी की कृपा प्राप्त होते हैं और तो और उस व्यक्ति को जल्दी ही मोक्ष प्राप्त होता हैं । इसलिए महीने में दो बार एकादशी आते हैं भक्ति और निष्ठा के साथ नियम और विधि के साथ एकादशी का पालन करना चाहिए । 



वर्तमान आज का दिन सबसे अधिक अधर्म की रास्ता लोग अपना रहे हैं जिसके कारण हिंदू धर्म में कुछ विधि और नियमों को अधिकांश लोग भूलते जा रहे हैं । वर्तमान आज के दिन में एकादशी पालन करना बहुत कम लोग जानते हैं अभी भी हमारे बुजुर्गों ने एकादशी व्रत पालन करना बहुत ही महत्त्व देता है । क्योंकि उन्हें पता है कि एकादशी व्रत का पालन करने से क्या फल मिलता है । 


वैसे आप अपने घर में महीने में दो बार एकादशी पालन कर सकते हैं । ज्योतिषी के अनुसार कहा जाता है कि एकादशी व्रत ओ पालन करने से शारीरिक से लेकर मानसिक स्वस्थ रहते हैं इससे सबसे ज्यादा सकारात्मक ऊर्जा का प्रभाव पड़ता है । ज्योतिषी के अनुसार घर के कोई भी सदस्य अगर व्रतों पालन करते हैं तो उनकी सकारात्मक ऊर्जा से घर के वातावरण शुद्ध रहते हैं । और तो और घर के आर्थिक व्यवस्था में भी सुधार हो जाता है । घर के सभी सदस्यों के शारीरिक स्वस्थ रहते हैं एवं मन के बल अधिक हो जाता है । 


प्रिय मित्रों यदि आप एकादशी पालन करना चाहते हैं तो आप कर सकते हैं । एकादशी पालन हर कोई घर के व्यक्ति कर सकते हैं इसमें कोई बस भक्ति और श्रद्धा के साथ करें ।


 तो आप एकादशी पालन 

कैसे करेंगे जानिए । 


👉सर्वप्रथम एकादशी के दिन में एकादशी पालन करते समय कभी भी अपने मन में क्रोध को पालना नहीं चाहिए मन को शांति बनाए रखें ।


👉एकादशी के पहले दिन आप घर में बिल्कुल शाकाहारी भोजन ही करें । मीट, मछली ,लहसुन, प्याज इन सब को घर में इस दिन उपयोग ना करें ।


👉एकादशी के रात में पूर्ण रूप से ब्रह्मचारी के पालन करना चाहिए इस दिन रात शारीरिक संबंध ना बनाइए ।


👉एकादशी के दिन सुबह-सुबह दांत साफ करने के लिए लकड़ी का व्यवहार ना करें एसडीएम किसी वृक्ष से पत्ते तोड़ना भी वर्जित है आपके लिए इसलिए गिरे हुए पत्ते को उठाकर चबा लीजिए । यदि यह आपके लिए संभव ना हो तो 12 बार पानी से अच्छी तरह से कुल्ला कर लीजिए ताकि मुंह साफ हो जाए उसके बाद मंदिर जाकर गीता पाठ करें एवं ॐ विष्णु भगवते वासुदेवाय नमः इस मंत्र का 7 बार जप करें । उसके बाद भगवान विष्णु से कहे कि हे नाथ मेरे यह प्राण आप का हैं । मेरे ओर से अगर किसी भी प्रकार की भक्ति में त्रुटि रह गई तो मुझे क्षमा करें और मुझे अच्छा मार्गदर्शन करें । 🙏


👉एकादशी के दिन में बहुत ही सावधानी के साथ घर में झाड़ू लगाना चाहिए क्योंकि इस दिन किसी भी प्रकार के किसी के प्राण हारना नहीं चाहिए । झाड़ू से छोटे-छोटे चीटियों का प्राण जा सकता है इसलिए आप सावधानी से घर में झाड़ू लगाईं ।


👉याद रखें एकादशी के दिन में हाथ के नाखून, सिर के बाल , दाढ़ी यह सब काटना नहीं चाहिए । इस दिन बाल ,नाखून ,दाढ़ी काटने से आपका व्रत सफल नहीं होगा ।


👉इस दिन आपका जितना समर्थ है उतना गरीबों को दान करें अगर कोई आपको खाने के लिए अन्न दे रहे हैं तो उसे ग्रहण ना करें ।


👉वैष्णवों को योग्य द्वादशी मिली हुई एकादशी का व्रत करना चाहिए। त्रयोदशी आने से पूर्व व्रत का पालन करें। 

प्रिय मित्रों भक्ति और श्रद्धा के साथ नियम और विधि के साथ अगर आप एकादशी पालन करते हैं तो आने वाले समय में जाने अनजाने अगर आप का पाप है तो नष्ट हो जाएंगे और आप मोक्ष प्राप्त करेंगे ।

आशा करता हूं कि हमारे यह जानकारी आपको लाभ मिलेगा और भी जानकारी प्राप्त करना चाहते हैं तो सब्सक्राइबर करें और हमारे साथ जुड़े रहिए ।

🙏धन्यवाद 🙏 

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ