गणेश जी के १०८ नाम जाप करने से ऐसे होगा चमत्कार

Religion dharmik


भगवान गणेश जी के 108 नाम जाप करने से क्या फल मिलता है और क्या चमत्कार होगा जानिए हमारे साथ मित्र नमस्कार हमारे वेबसाइट में आपका स्वागत है । प्रथम पूज्य भगवान गणेश जी के 108 नाम जप करने से मित्र आपके लिए वह फायदे होंगे कि आप हैरान रह जाएंगे । भगवान गणेश जी का महिमा अपार हैं भगवान गणेश जी की कृपा बड़ी आसानी से प्राप्त की जा सकती है  सुबह या शाम अगर आप भगवान गणेश जी का इस 108 नाम जप करेंगे  । प्रिय मित्रों भगवान गणेश जी का सहस्रनाम है  । भगवान गणेश जी के सहस्रनामों में से एक सौ आठ नाम जप करने  दिया गया । अगर आपके अंदर में भगवान गणेश के प्रति भक्ति और श्रद्धा है तो चमत्कार जरूर देख सकते हैं । 



प्रथम पूज्य भगवान गणेश जी के 108 नाम जप करने से आपके घर में सुख, शांति, ऐश्वर्या एवं धन की वृद्धि होगी जहां आप दरिद्रता से मुक्ति पाएंगे । 


अगर आपके घर में किसी सदस्यों के विवाह में बाधा उत्पन्न हो रहा है तो भगवान गणेश जी के 108 नाम  जाप सुबह हो या शाम के समय अवश्य करें । इससे विवाह संबंध समस्याओं को दूर होता है । बस भक्ति और श्रद्धा के साथ भगवान गणेश की पूजा आराधना करें ।

अगर आपका व्यापार में नुकसान हो रहा हो तो भगवान गणेश जी के 108 नाम का जाप शाम के समय अवश्य करें । क्योंकि यहां नाम के साथ-साथ मंत्र भी दिया गया है जिससे भगवान गणेश जी बहुत ही जल्द प्रसन्न होकर आपको कृपा करेंगे आपके किसी भी काम पर ध्यान रखेंगे । 


 1) बालगणपति – ॐ बालगणपति नमः

2) भालचन्द्र – ॐ भालचन्द्र नमः

3) बुद्धिनाथ – ॐ बुद्धिनाथ नमः

4) धूम्रवर्ण – ॐ धूम्रवर्ण नमः

5) एकाक्षर –ॐ  एकाक्षर नमः

6) एकदंत – ॐ एकदंत नमः

7) गजकर्ण – ॐ गजकर्ण नमः

8) गजानन – ॐ Gajaanan नमः

9) गजनान – ॐ Gajnaan नमः

10) गजवक्र – ॐ Gajvakra नमः

11) गजवक्त्र – ॐ Gajvaktra नमः

12) गणाध्यक्ष – ॐ Ganaadhyaksha नमः

13) गणपति – ॐ Ganapati नमः

14) गौरीसुत –ॐ Gaurisut नमः

15) लंबकर्ण – ॐ Lambakarn नमः

16) लंबोदर – ॐ Lambodar नमः

17) महाबल – ॐ Mahaabal नमः

18) महागणपति – ॐ Mahaaganapati नमः

19) महेश्वर – ॐ Maheshwar नमः

20) मंगलमूर्ति – ॐ Mangalmurti नमः

21) मूषकवाहन – ॐ Mushakvaahan नमः

22) निदीश्वरम – ॐ Nidishwaram नमः

23) प्रथमेश्वर – ॐ Prathameshwar नमः

24) शूपकर्ण – ॐ Shoopkarna नमः

25) शुभम – ॐ Shubham नमः

26) सिद्धिदाता –ॐ Siddhidata नमः

27) सिद्धिविनायक – ॐ Siddhivinaayak नमः

28) सुरेश्वरम – ॐ Sureshvaram नमः

29) वक्रतुंड – ॐ Vakratund नमः

30) अखूरथ – ॐ Akhurath नमः

31) अलंपत – ॐ Alampat नमः

32) अमित – ॐ Amit नमः

33) अनंतचिदरुपम – ॐ Anantchidrupam नमः

34) अवनीश – ॐ Avanish नमः

35) अविघ्न – ॐ Avighn नमः

36) भीम – ॐ Bheem नमः

37) भूपति – ॐ Bhupati नमः

38) भुवनपति – ॐ Bhuvanpati नमः

39) बुद्धिप्रिय – ॐ Buddhipriya नमः

40) बुद्धिविधाता – ॐ Buddhividhata नमः

41) चतुर्भुज – ॐ Chaturbhuj नमः

42) देवदेव – ॐ Devdev नमः

43) देवांतकनाशकारी – ॐDevantaknaashkari नमः

44) देवव्रत – ॐ Devavrat नमः

45) देवेन्द्राशिक – ॐ Devendrashik नमः

46) धार्मिक – ॐ Dharmik नमः

47) दूर्जा – ॐ Doorja नमः

48) द्वैमातुर – ॐ Dwemaatur नमः

49) एकदंष्ट्र – ॐ Ekdanshtra नमः

50) ईशानपुत्र – ॐ Ishaanputra नमः

51) गदाधर – 🕉️ Gadaadhar नमः

52) गणाध्यक्षिण –  🕉️ Ganaadhyakshinaनमः

53) गुणिन –  🕉️ Gunin नमः

54) हरिद्र – ॐ Haridra नमः

55) हेरंब –ॐ Heramb नमः

56) कपिल – ॐ Kapil नमः

57) कवीश – ॐ Kaveesh नमः

58) कीर्ति – ॐ Kirti नमः

59) कृपाकर – ॐ Kripakar नमः

60) कृष्णपिंगाक्ष –ॐ Krishnapingaksh नमः

61) क्षेमंकरी – ॐ Kshemankari नमः

62) क्षिप्रा – ॐ Kshipra नमः

63) मनोमय – ॐ Manomaya नमः

64) मृत्युंजय – ॐ Mrityunjay नमः

65) मूढ़ाकरम –ॐ Mudhakaram नमः

66) मुक्तिदायी – ॐ Muktidaayi नमः

67) नादप्रतिष्ठित – ॐ Naadpratishthit नमः

68) नमस्तेतु – ॐ Namastetu नमः

69) नंदन – ॐ Nandan नमः

70) पाषिण – ॐ Pashin नमः

71) पीतांबर – ॐ Pitaamber नमः

72) प्रमोद –ॐ Pramod नमः

73) पुरुष –ॐ Purush नमः

74) रक्त – ॐ Rakta नमः

75) रुद्रप्रिय –ॐ Rudrapriya नमः

76) सर्वदेवात्मन – ॐ Sarvadevatmana नमः

77) सर्वसिद्धांत – ॐ Sarvasiddhanta नमः

78) सर्वात्मन – ॐ Sarvaatmana नमः

79) शांभवी – ॐ Shambhavi नमः

80) शशिवर्णम – ॐ Shashivarnam नमः

81) शुभगुणकानन – ॐ Shubhagunakaanan नमः

82) श्वेता – ॐ Shweta नमः

83) सिद्धिप्रिय –ॐ Siddhipriya नमः

84) स्कंदपूर्वज –ॐ Skandapurvaj नमः

85) सुमुख – ॐ Sumukha नमः

86) स्वरुप –ॐ Swarup नमः

87) तरुण – ॐ Tarun नमः

88) उद्दण्ड – ॐ  Uddanda नमः

89) उमापुत्र – ॐ Umaputra नमः

90) वरगणपति –  ॐ Varganapati नमः

91) वरप्रद –ॐ Varprada नमः

92) वरदविनायक – ॐ Varadvinaayak नमः

93) वीरगणपति – ॐ Veerganapati नमः

94) विद्यावारिधि – ॐ Vidyavaaridhi नमः

95) विघ्नहर – ॐ Vighnahar नमः

96) विघ्नहर्ता – ॐ Vighnahartta नमः

97) विघ्नविनाशन – ॐ Vighnavinashan नमः

98) विघ्नराज – ॐ Vighnaraaj नमः

99) विघ्नराजेन्द्र – ॐ Vighnaraajendra नमः

100) विघ्नविनाशाय – ॐ Vighnavinashay नमः

101) विघ्नेश्वर – ॐ Vighneshwar नमः

102) विकट – ॐ Vikat नमः

103) विनायक – ॐ Vinayak नमः

104) विश्वमुख – ॐ Vshvamukh नमः

105) यज्ञकाय – ॐ Yagyakaay नमः

106) यशस्कर – ॐ Yashaskar नमः

107) यशस्विन – ॐ Yashaswin नमः

108) योगाधिप – ॐ Yogadhip नमः


भगवान गणेश जी के 108 नाम जप करना चाहते हैं तो आपको कम से कम 3 से 4 मिनट समय लग सकता है । अगर आप हर रोज 3 या 4 मिनट भगवान गणेश जी के लिए समय दे दिया तो आने वाले समय में आपके साथ ऐसे चमत्कार होंगे कि आप खुद ही चकित हो जाएंगे । 

चमत्कार विषय में एक बात शेयर आपके साथ करने जा रहे हैं :- भगवान गणेश जी का 108 नाम जप करने से जिसके संतान आदि नहीं है उनके लिए भगवान गणेश जी के 108 नाम ही पर्याप्त है । क्योंकि गणेश जी की 108 नाम जाप करने से उनके घर में संतान प्राप्त होने का संयोग बनता है ।  

पूरे पोस्ट पढ़ने के लिए आपको बहुत-बहुत धन्यवाद आपका दिन शुभ हो ।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ