इस्लाम धर्म कब से शुरुआत हुआ जानें सच

History


मुस्लिम धर्म की स्थापना कब और किसने की इसका सच्चाई क्या है पूरी इतिहास जानने के लिए हमारे साथ बने रहे नमस्कार मित्रों हमारे वेबसाइट में आपका स्वागत है  । जो मित्रों इस इतिहास को जानने के लिए लंबे दिनों से इंतजार कर रहे थे आज उसका इंतजार खत्म क्योंकि मैंने बहुत रिचार्ज करने के बाद ही सच्चाई आपके सामने लेकर आए हैं जहां ऐसे सच्चाई आपको कोई नहीं बताएंगे और ना ही आपको प्राप्त होंगे  । यहां जो भी वर्णन किया गया है सभी इतिहास के अनुसार ही बताया गया है इसमें कितना सच्चाई है यह तो आप खुद ही विश्वास कर सकते हैं  ।


तो चलिए मित्र जानते हैं इस्लाम धर्म की स्थापना कब हुई ।

  •  लगभग 570 ई (आम-अल-फ़ील (हाथी का वर्ष)) में अरब के शहर मक्का में पैदा हुए, मुहम्मद छह साल की उम्र में अनाथ हो गये।  वह अपने पैतृक चाचा अबू तालिब और अबू तालिब की पत्नी फ़ातिमा बिन्त असद की देखभाल में थे। समय-समय पर, वह प्रार्थना के लिए कई रातों के लिए हिरा नाम की पर्वत गुफा में अल्लाह की याद में बैठते। बाद में, 40 साल की उम्र में, उन्होंने गुफा में जिब्रील अलै. को देखा, जहां उन्होंने कहा कि उन्हें अल्लाह से अपना पहला इल्हाम प्राप्त हुआ। तीन साल बाद, 610 में, हज़रत मुहम्मद ने सार्वजनिक रूप से इन रहस्योद्घाटनों का प्रचार करना शुरू किया, यह घोषणा करते हुए कि " ईश्वर एक है ", कि अल्लाह को पूर्ण "समर्पण" (इस्लाम) कार्यवाही का सही तरीका है (दीन) और वह इस्लाम के अन्य भविष्यवक्ताओं के समान, भगवान के एक पैगंबर और दूत थे।  हज़रत मुहम्मद ने शुरुआत में कुछ अनुयायियों को प्राप्त किया,और मक्का में अविश्वासियों से शत्रुता का अनुभव किया। चल रहे उत्पीड़न से बचने के लिए,उन्होंने कुछ अनुयायियों को 615 ई में अबीसीनिया भेजा, इससे पहले कि वह और उनके अनुयायियों ने मक्का से मदीना (जिसे यस्रीब के नाम से जाना जाता था)से पहले 622 ई में हिजरत (प्रवास या स्थानांतरित)किया। यह घटना हिजरा या इस्लामी कैलेंडर की शुरुआत को चिह्नित करता है,जिसे हिजरी कैलेंडर के रूप में भी जाना जाता है। मदीना में,मुहम्मद ने मदीना के संविधान के तहत जनजातियों को एकजुट किया। दिसंबर 692 में,मक्का जनजातियों के साथ आठ वर्षों के अंतराल युद्धों के बाद,मुहम्मद ने 10,000 मुसलमानों की एक सेना इकट्ठी की लेकिन उन्होंने लड़ाई में कभी पहल नहीं की और हमेशा शान्ति से मामले को सुलझाने की कोशिश करते और मक्का शहर पर चढ़ाई की। विजय काफ़ी हद तक अनचाहे हो गई और मुहम्मद ने शहर को खून खराबा होने से बचा भी लिया। 632 में, विदाई तीर्थयात्रा से लौटने के कुछ महीने बाद, वह बीमार पड़ गए और वह इस दुनिया से रुक्शत हो गए। उनके जाने से पहले ही, अधिकांश अरब प्रायद्वीप इस्लाम में परिवर्तित हो गया था। 

  • रहस्योद्घाटन (प्रत्येक को आयह के नाम से जाना जाता है, (अल्लाह के इशारे), जो मुहम्मद ने दुनिया से जाने तक प्राप्त करने की सूचना दी, कुरान के छंदों का निर्माण किया, मुसलमानों द्वारा शब्द" अल्लाह का वचन "के रूप में माना जाता है और जिसके आस-पास धर्म आधारित है। कुरान के अलावा, हदीस और सीरा (जीवनी) साहित्य में पाए गए मुहम्मद की शिक्षाओं और प्रथाओं (सुन्नत) को भी इस्लामी कानून के स्रोतों के रूप में उपयोग किया जाता है वह हमेशा सच बोला करते और दुश्मन भी उनकी तारीफ किया करते। हज़रत मुहम्मद कभी 2 वक़्त का खाना नहीं खाते खाने में एक ही सब्जी लेते, कभी कभी महीना गुजर जाता था लेकिन आपके घर चूल्हा नहीं जलता था, उनके परिवार और चाहने वालों को हमेशा यातनायें दी गयी थी ।


 जानें  मुहम्मद का जन्म कहां हुआ था ?

  • हजरत मुहम्मद का जन्म मुस्लिम इतिहासकारों के अनुसार अरब के रेगिस्तान के शहर मक्का में 8 जून, 570 ई. मेंं हुआ। ‘मुहम्मद’ का अर्थ होता है ‘जिस की अत्यन्त प्रशंसा की गई हो'। इनके पिता का नाम अब्दुल्लाह और माता का नाम आमिना है। हज़रत मुहम्मद की सशक्त आत्मा ने इस सूने रेगिस्तान से एक नए संसार का निर्माण किया, एक नए जीवन का, एक नई संस्कृति और नई सभ्यता का। आपके द्वारा एक ऐसे नये राज्य की स्थापना हुई, जो मराकश से ले कर इंडीज़ तक फैला और जिसने तीन महाद्वीपों-एशिया, अफ्रीका, और यूरोप के विचार और जीवन पर अपना अभूतपूर्व प्रभाव डाला।

एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ