समस्त पाप नाशक मंत्र का प्रयोग कैसे करें ? जानें

mantras



समस्त पाप को दूर करने के लिए कैसे करें उपाय जानिए हमारे साथ मित्र नमस्कार हमारे वेबसाइट में आपका स्वागत है । 


ईश्वर मनुष्य को ज्ञान, बुद्धि, साहस, धैर्य यह चारों गुण दिया हुआ है जो कि पाप पुण्य क्या है उसे स्वयं विचार कर सकते हैं । 

मनुष्य एक ऐसा प्राणी है जो उन्हें सब कुछ समझ में आती है जो कुछ भी कर्म करते हैं उन्हें भली-भांति ज्ञात होता है कि वह क्या कर रहे हैं पाप कर रहे हैं या पुण्य काम कर रहे हैं ।

 मनुष्य से यदि गलती से पाप कर्म हो जाए तो उन्हें उस बात को ध्यान देना चाहिए समझने की कोशिश करनी चाहिए । 

और फिर अपने गलती का एहसास होना चाहिए दोबारा ऐसी गलती ना हो । और फिर ईश्वर प्रति विश्वास रखकर उसे स्मरण करना चाहिए ।

जो व्यक्ति अपने गलती की एहसास होते हैं या उन्हें समझ में आती है ऐसे व्यक्ति ईश्वर का प्रति भक्ति और श्रद्धा रखते हैं हमेशा उन्हें स्वर्ण करते हैं ऐसे व्यक्ति को कभी भी ज्यादा पाप नहीं होता है । वैसे भी प्रभु भक्ति में लीन रहने वाले व्यक्ति पापों से दूर रहते हैं ।

जो व्यक्ति क्रोध ,मोह माया, और लोभ अंदर ने पाले हुए हैं उन्हें तो पापों से घेर लेते हैं । वैसे व्यक्ति ईश्वर प्रति नाही भक्ति रखते हैं और ना ही किसी पर विश्वास करते हैं ऐसे लोगों पर इतने पाप घेर लेते हैं कि उन्हें कई जन्म तक अपने पापों की दंड भुगतना पड़ता है ।


तो मित्रों यदि आप जानबूझकर हो या गलती से पाप कीए हैं तो बिल्कुल चिंता मत करें क्योंकि मैं आपके लिए वह मंत्र लेकर आए हैं जहां बड़े से बड़े पापों को नष्ट कर देते हैं । बस अपने मन में विश्वास रखें और भक्ति के साथ ईश्वर को स्मरण करें ।


नीचे भगवान विष्णु का मंत्र दिया गया है इसे निरंतर जप करते रहना चाहिए और भगवान विष्णु की पूजा अर्चना अवश्य करें ।


 स्तुत्वा विष्णुं वासुदेवं विपापो जायते नर:।

विष्णो:सम्पूजनान्नित्यं सर्वपापं प्रणश्यति।।


सर्वदा सर्वकार्येषु नास्ति तेषाममङ्गलम्।

येषां हृदिस्थो भगवान् मंङ्गलायतनो हरि:।।


अर्थ:-सर्वव्यापक विष्णु भगवान का स्तवन करने से मनुष्य निष्पाप हो जाता है। 


कहां जाता है धर्म शास्त्र के अनुसार यदि आप इस मंत्रों का निरंतर जाप करते रहेंगे तो आपके लिए और आपके परिवार के लिए कोई संकट आने वाले नहीं हैं । अगर आप जानबूझकर हो या गलती से भी पाप किए हैं तो सभी पापों को विनाश करते हैं यह मंत्रों । 

यह है भगवान विष्णु के चमत्कारी मंत्र कहा जाता है । भगवान विष्णु की स्मरण करने वाले भक्तों को कभी भी कष्ट एवं संकट आने नहीं देते हैं मन में सिर्फ भक्ति रखें और निरंतर इसे सुबह-शाम जब भी मन करे तभी आप जाप करें इससे भगवान विष्णु प्रसन्न होकर कृपा प्रदान करेंगे ।

Post a Comment

Previous Post Next Post